“मेरे बच्चों” शायर : आमिर किदवई की कलम से

amir-kidwai-shayar

 

मेरे अगवा पे भी ख़ामोश बैठे हो

तुम्हारा ख़ून जैसे सर्द होता जा रहा है

लहू में अब कोई गर्मी नहीं शायद

मुहब्बत अब नहीं बाक़ी रही है

जुनूं के पैर में बेड़ी पड़ी है

सुकून वा अमन जैसे कहानी है

अंधेरे रक्स में डूबे हुए हैं

हवाएं चीखती फिरती हैं सड़कों पर

सदाए दर्द फैली है फिज़ा में

मेरे बच्चों ये आंसू पोंछ डालो

उठो और वक़्त की जंजीर काटो

नजर आए जहां वहशी दरिंदे मार डालो

लहू मेरे यह चूसे जा रहे हैं

मेरी सांसें उखड़ती जा रही हैं

अब इस माहौल से मुझको निकालो

मुझे डर लग रहा है वहशियों से

तुम्हारी मां हूं “भारत मां ” तुम्हारी

मुझे इन खूनी पंजों से छुड़ा लो

मेरे बच्चों दरिंदों से बचा लो

 

………

 

आमिर किदवई उर्दू के प्रसिद्ध शायर हैं और कुवैत में पिछले तीस वर्षों से अध्यापन कार्य कर रहे हैं।